1000 सोने की मोहरे | तेनालीराम का न्याय

तेनालीराम का न्याय – Tenali Rama Justice Tenali Rama विजयनगर राज्य में एक ब्राह्मण रहता था| उसने जीवन भर मेहनत करके 1000 स्वर्ण मुद्राएं इकट्ठा कर रखी थी| बुढ़ापे में ब्राह्मण के मन में चारों धाम की तीर्थ यात्रा करने की इच्छा जागृत हुई| वह स्वर्ण मुद्राओं को अपने साथ ले जाना नहीं चाहता था| उसने इन स्वर्ण मुद्राओं को एक थैली में बंद करके अपने पड़ोसी राघव सेठ के पास जाकर बोला:-” सेठ जी! मैं चारों धाम की यात्रा पर जा रहा हूं| मेरे जीवन भर की कमाई इस…

read more

नदी का पुल

नदी का पुल   महाराज कृष्णदेव राय का दरबार लगा हुआ था| द्वारपाल ने महाराज को सूचना दी कि एक गांव के कुछ व्यक्ति आपसे मिलना चाहते हैं| महाराज ने उन्हें अंदर आने की आज्ञा प्रदान की| गांव के लोगों ने कहा:- “महाराज हमारे गांव के पास से होकर एक नदी बहती है और वर्षा ऋतु में उस नदी में उफान आ जाता है| नदी पर कोई पुल नहीं होने के कारण गांव में आने जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ता है| वर्षा ऋतु में बाढ़ आ जाने…

read more

सांप भी मर जाए और लाठी भी ना टूटे

सांप भी मर जाए और लाठी भी ना टूटे – Tenali Raman Kahani   राजा कृष्णदेव राय के दरबार में कई दरबारी थे, जिनमें से एक दरबारी का नाम गुणसुंदर था| एक दिन तेनालीराम ने हंसी मजाक में गुणसुंदर को कुछ ऐसी बात कह दी जो गुणसुंदर को बुरी लग गई| तब से ही गुण सुंदर तेनालीराम से बदला लेने की योजनाएं बनाता रहता था| राजगुरु भी तेनालीराम से खार खाए बैठे थे| तेनालीराम को नीचा दिखाने के लिए राजगुरु और गुणसुंदर में मित्रता हो गई| दोनों की मित्रता का कारण…

read more

राजा का मिट्ठू | Parrot Story in Hindi

राजा का मिट्ठू Parrot Story in Hindi एक समय की बात है किसी व्यक्ति ने महाराजा कृष्णदेव राय को एक तोता भेंट स्वरूप प्रदान किया| वह तोता बड़ी सुंदर सुंदर बातें करता था और यह तोता महाराज के मन को भा गया था| उन्होंने इस तोते को एक नौकर को देकर कहा कि इसके पालन पोषण की जिम्मेदारी आज से तुम्हारे ऊपर है| इसका विशेष ध्यान रखना| यह मुझे अपने प्राणों से भी प्यारा है| यदि इसे कुछ हो गया तो मैं तुम्हारे प्राण ले लूंगा| यदि तुमने या किसी…

read more