Real Happiness | सुख एक feeling है और यह temporary है


Real Happiness

इस दुनिया में सब कुछ पाने की हमारी इच्छाओं का कोई अंत नहीं है हर किसी को इस दुनिया में सुख चाहिए| जबकि खलील जिब्रान का कहना है सुख-दुख साथ-साथ हमेशा साथ-साथ रहते हैं|Life में अगर सुख है तो साथ ही दुख भी है| एक ही सिक्के के दो पहलू हैं जो कभी हमारे जीवन से दूर नहीं हो सकते| आज के इस दौर में बहुत से लोग किसी भी तरह से अपनी इच्छाओं की पूर्ति करना चाहता है| इच्छाओं की पूर्ति के बाद जो हमें मिलेगा उसका तथाकथित(so called) नाम है  ‘सुख’ (Real happiness)|

 

Real Happiness

एक बात तो आपने सुनी होगी कि A.C. वाले bedroom में सोने वाले लोगों को भी नींद मुश्किल से आती है| वहीं दूसरी ओर दिन भर के परिश्रम से थका मजदूर तुरंत ही नींद के आगोश में चला जाता है|

सुख एक feeling है और यह temporary(क्षणिक) है| सुख, वस्तु या व्यक्ति के अधीन है, जबकि आनंद, आत्मानंद के रूप में स्वाधीन है| हमें जीवन में ऐसा लगता है कि वस्तुओं के होने से हमें सुख मिल रहा है| यदि ऐसा होता तो एक ही वस्तु एक के लिए सुखद और दूसरे के लिए दुखदाई ना होती|

यदि कोई मनुष्य अपने जीवन में आनंदित है, शांत है, तो उसके जीवन में सुख और दुख, दोनों ही महत्वपूर्ण है| जैसे एक पिता अपने पुत्र के लिए जिंदगी भर अभाव में जीना पसंद करता है| क्योंकि उसके लिए असली खुशी त्याग(Sacrifice) में है|

आप ये भी पढ़ सकते हैं:-

यदि हम दिनरात सुख के पीछे दौड़ते रहेंगे तो यही सुख, चिंता और परेशानियों का कारण बन जाएगा और अंत में दुख देने लगेगा| कुछ लोग यह भी सोचते हैं कि वह जीवन में पैसा इकट्ठा कर ले तो सारी परेशानियां दूर हो जाएंगी|

जबकि वास्तविकता यह है कि जिसके पास ज्यादा पैसा है वह उसकी सुरक्षा में परेशान है और जिसके पास पैसा नहीं है वह उसे पाने के लिए परेशान हैं| दोनों ही conditions में पैसा दुख का कारण है|

मैं यह नहीं कहता कि जीवन में पैसा नहीं कमाना चाहिए| लेकिन पैसे की अहमियत और जरूरत हमारी जिंदगी में उतनी ही है जितनी एक गाड़ी में पेट्रोल या डीजल की होती है(ना उससे ज्यादा ना उससे कम)| यह एक कड़वा सत्य है कि पैसा बनाया इंसान ने और वही इंसान उसका गुलाम बन बैठा|


Related posts

Leave a Comment