Thoughts management | विचारों का सही प्रबंधन


Thoughts management

विचारों के सही प्रबंधन (thoughts management) के माध्यम से ही हम जीवन में सफल, समृद्ध बन सकते हैं और सफलता को प्राप्त कर सकते हैं| हर एक व्यक्ति के पास दिन में केवल 24 घंटे का समय होता है जिसमें उसे अपने सारे कार्य पूरे करने होते हैं|

Thoughts management

 

Thoughts management

हम अपने समय का अधिक से अधिक उपयोग कर सकें, इसके लिए Time management बहुत जरूरी है| हलाकि कुछ लोग time को काम के हिसाब से divide करने को time management मानने की भूल करते हैं| लेकिन time management की अपेक्षा समय का सही उपयोग बहुत जरूरी है| यदि हम समय का सही उपयोग करना सीख जाए तो जीवन में बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं, बहुत ऊंचाइयों तक पहुंच सकते हैं|

एक समय में एक ही काम करो और उस काम को करते समय अपनी

पूरी आत्मा उसमे डाल दो, बाकी सब कुछ भूल जाओ|

स्वामी विवेकानंद (swami vivekananda)

जीवन में बहुत से लोग ऐसे भी हुए हैं जिनको Time management का कुछ खास ज्यादा ज्ञान नहीं था लेकिन फिर भी वह जीवन में सफलता प्राप्त करने में कामयाब हुए|

लक्ष्य के लिए खड़े हो तो एक पेड़ की तरह, गिरो तो एक बीज की तरह,

ताकि दोबारा उठ कर उस लक्ष्य के लिए फिर से जंग कर सको|

स्वामी विवेकानंद (swami vivekananda)

वास्तव में जो हम कार्य करते हैं उसके मूल(root) में हमारी इच्छाएं (desires) होती है| यदि हमारी इच्छाएं महान है| कुछ अच्छा करने की है, कुछ बड़ा बनने की है तो हमारे कार्य भी उसी के अनुरूप होंगे|

हमारी इच्छाएं हमारे विचारों का परिणाम होती है|

जिस तरह के thoughts हमारे mind मैं generate होते हैं| हमारे actions भी उसी तरह के होते हैं| कई बार हमारी अपेक्षाएं(expectations) बहुत ज्यादा होती हैं, सपने बड़े होते हैं और हम उन्हें पूरा भी कर देते हैं| लेकिन फिर भी जीवन में संतुष्टि(satisfaction) नहीं मिल पाती है| इसका मतलब है कि हमने समय का उपयोग तो सही किया लेकिन लाइफ में जो प्राप्त(achieve) किया उन उपलब्धियों में संतुलन की कमी रही|

इस असंतुलन का कारण है :- Desires, expectations.

आप ये भी पढ़ सकते हैं:-

Thoughts management

जब तक हम अपने thoughts को सही तरीके से manage नहीं करते हैं तब तक achievements में संतुलन हो ही नहीं सकता|

यदि हमारी इच्छा खूब पैसा कमाने की है तो जब तक पैसे को सही तरीके से कमाने की इच्छा या अपेक्षा नहीं करेंगे तो पैसा हमारे लिए समस्या बन सकता है| और उसके दुरुपयोग की संभावना बढ़ जाती है |

इस स्थिति से बचने के लिए विचारों का सही प्रबंधन (thoughts management) बहुत जरूरी है|


Related posts

Leave a Comment