Jeevan Mantra in Hindi | प्रेरणादायक जीवन मंत्र

  • 3
    Shares

हम सभी जानते हैं कि जीवन जीने की एक कला होती है| यदि हम उस कला को जानते हैं तो जीवन को सही तरीके से सही रास्ते पर चलते हुए खुशी से व्यतीत कर सकते हैं| जीवन में कुछ ऐसे कार्य हैं जो हमें नहीं करने चाहिए| वहीं दूसरी और कुछ ऐसी महत्वपूर्ण बातें हैं उनका जीवन में यदि पालन किया जाए तो मनुष्य जीवन का कुछ अर्थ होता है| मनुष्य जीवन को सही तरीके से जीने के लिए जीवन मंत्र (Jeevan Mantra) की आवश्यकता होती है| कुछ प्रेरणादायक जीवन मंत्र  नीचे लिखे गए हैं:-

jeevan mantra

Jeevan Mantra 1. सुख और दुख में समान रहे

जिंदगी में हमेशा उतार चढ़ाव है| हर समय संघर्ष और चुनौतियां है| हमारे पास जो भी है हमें उसमे खुश रहना सीखना चाहिए| जो हमारे पास है ही नहीं उसके बारे में सोच कर क्यों दुखी होना? खुशियां बड़ी बड़ी उपलब्धियों में नहीं है बल्कि छोटे-छोटे पलों को जीने में है| यह बात हमेशा ध्यान रखें कि जब भी जीवन में खुशियां आती है तो दुखों का मुकुट पहन कर आती है| इसलिए जीवन में सुख और दुख दोनों ही महत्वपूर्ण है|

अच्छा दिन खुशियां लाता है और बुरा दिन अनुभव, जिंदगी के लिए दोनों ही जरूरी है

Jeevan Mantra 2. जीवन में मन की शक्ति बहुत जरूरी है

यदि मनुष्य में शारीरिक शक्ति तो बहुत हो परंतु मानसिक शक्ति ना हो तो यह नुकसानदायक हो सकता है| इसलिए तन की शक्ति के साथ-साथ मन की शक्ति का होना भी बहुत जरूरी है| इस दुनिया में कोई भी ऐसी समस्या नहीं है, जो मन की शक्ति से अधिक शक्तिशाली हो तथा जिसका समाधान न हो|

जहां चाह होती है वहां राह हमेशा होती है|

Jeevan Mantra 3. दूसरों के प्रति अपने नजरिए को बदलिए

इस दुनिया में कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है, जो सर्वगुण संपन्न है| हर किसी व्यक्ति में कुछ ना कुछ कमियां है| दूसरों को बदलने की कोशिश ना करें और ना ही दूसरों पर कभी उंगली उठाएं| जो जैसा भी है यदि हम उसको उसी स्वरुप में पसंद करेंगे तो इससे हमारे मन को शांति मिलती है|

Jeevan Mantra 4. देने की भावना जगाइए

जब मनुष्य में दान देने की प्रवृत्ति जन्म लेती है तो समाज में उसका प्रभाव बनता है और अन्य लोग प्रेरित होते हैं| मनुष्य की सारी उपलब्धियां तभी मायने रखती है जब वह समाज के लिए कुछ अच्छा करता है| प्रकृति से हमें देने की कला सीखनी चाहिए जैसे सूर्य हमें रोशनी एवं ऊर्जा देता है, वृक्ष हमें फल देते हैं और नदियां हमें जल देती है|

Jeevan Mantra 5. झूठ का सहारा कभी ना ले

यह बात हमेशा ध्यान रखें कि एक झूठ के लिए हमें हजार झूठ बोलने पड़ते हैं| सत्य को कभी याद नहीं रखना पड़ता जबकि झूठ को हमेशास्मृति पटल पर रखना होता है| झूठ को आप जितनी बार दोहराते हैं उतनी ही बार उसका अर्थ बदल जाता है| यदि हम जीवन में झूठ का सहारा लेते हैं तो यह मानसिक तनाव का कारण बनकर हमारे जीवन की सरलता को समाप्त कर देता है|

सरलता ही सत्य है और सत्य ही ईश्वर है|

झूठ के हजार रूप हो सकते हैं लेकिन सत्य हमेशा एक ही होता है|

Jeevan Mantra 6. कभी अहंकार न करें

अहंकार ही मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है|हम इस बात को कभी नहीं भूलना चाहिए कि हम कौन हैं और हमारा अस्तित्व क्या है| आसमान के छोटे-छोटे सितारे भी हमसे बहुत ज्यादा बड़े हैं| सड़क पर पड़े रहने वाला छोटा सा कंकड़ भी सदियों तक स्थिर रहकर शांत पड़ा रहता है| लेकिन मनुष्य में ऐसी प्रवृत्ति बहुत कम देखने को मिलती है क्योंकि हम लोग बहुत छोटी-छोटी बातों पर अपने अहंकार के कारण धैर्य और संयम खो बैठते हैं|

अहंकार करने से मनुष्य की बुद्धि का नाश होता है


  • 3
    Shares

Related posts

Leave a Comment