Funny Poems in Hindi | मजेदार हिंदी कविताएँ


Funny Poems in Hindi | व्यंग्यात्मक कविताएं

 

Funny Poems in Hindi #1

पूँछ पकड़ दादा ने फेंके दो भारी से बन्दर |

दोनों जाकर गिरे धम्म से

सीधे घर के अंदर |

घर के अंदर दादी जी थी,

कसकर मारा डंडा |

बन्दर उछले, चूका डंडा,

फूटा भारी हण्डा ||

 

Funny Poems in Hindi #2

बिल्ली मौसी चली बनारस,

लेकर झोला डंडा |

गंगा तट पर मिला उन्हें तब,

मोटा चूहा पंडा |

चूहा बोला – बिल्ली मौसी,

चलो करा दू पूजा |

मुझ सा पंडा यहाँ घाट पर,

 नहीं मिलेगा दूजा |

बिल्ली बोली – ओ पंडा जी,

भूख लगी है भारी |

पूजा नहीं, पेट पूजा की,

करो तुरंत तैयारी |

समझ गया चूहा, बिल्ली,

मौसी का पंगा जी में |

टिका चन्दन छोड़ घाट पर

कूदा गंगा जी में ||

सूर्य कुमार पांडेय 

Funny Poems in Hindi #3

सीधा अस्पताल जा पहुंचा,

भालू जब बीमार पड़ा |

मोटापे के मारे उसका,

बना हुआ था पेट घड़ा |

अस्पताल में बड़े ध्यान से,

उसका रोज इलाज हुआ |

थोड़ा मोटापन घट जाये,

सबने मांगी यही दुआ |

कई दिनों तक पड़ा रहा यों,

अस्पताल में भालू बंद |

डॉक्टर जी ने तुरंत कर दिए,

उसके आलू चीनी बंद ||

 

Funny Poems in Hindi #4

भालू की माँ बोली कालू

आ तुझको नहला दूँ |

लगा लगाकर साबुन बेटा ,

सारा मैल छुड़ा दूँ |

भागा भालू ज्यों ही माँ ने,

डाला ठंडा पानी ,

लगा चीखने जोर जोर से,

याद आ गयी नानी |

 

Funny Poems in Hindi #5

बन्दर मामा बी.ए पास

दुल्हन लाये एम. ए. पास |

मामा बोले – घूंघट कर,

ममी बोली – मुझसे डर |

मै लड़की हूँ एम. ए. पास,

मेने खोदी नहीं है घास |

फिल्म देखने जाउंगी,

रोटी नहीं बनाउंगी |

बन्दर बोला – क्यों-क्यों-क्यों,

बंदरिया बोली – खों खों खों ||

संतोष कुवंर 

 

Funny Poems in Hindi #6

अरे अरे क्या करती बकरी,

घास परायी चरती बकरी |

बकरी बकरी उधर ना जा ,

इधर चली आ , आ , आ , आ ,

वहीँ पकड़ ली जाएगी,

मै मै मै चिल्लायेगी ||

 

Funny Poems in Hindi #7

कितनी अच्छी कितनी प्यारी,

सब पशुओ से न्यारी गाय |

सारा दूध हमें दे देती,

आओ इसे पीला दे चाय ||


Related posts

Leave a Comment