जीतने की जिद


एक गांव में कुसुम नाम की एक लड़की  रहती थी| कुसुम का चयन एयरफोर्स में हो गया था और इस बात को लेकर उसके गांव वाले बड़े आश्चर्यचकित थे| किसी ने सोचा भी नहीं था कि एक छोटे से गांव की कमजोर वर्ग की लड़की एक दिन पूरे गांव का नाम रोशन करेगी |

एक बार एयर फोर्स के कुछ अफसरों का  जत्था एवरेस्ट की चढ़ाई के लिए जा रहा था| कुसुम को भी उसमें शामिल किया गया| हालांकि उसे पर्वतारोहण का कोई भी अनुभव नहीं था| कुसुम कड़ी मेहनत करने लगी और कुछ ही महीनों में वह अपने दोस्तों के साथ एवरेस्ट के पहले बेस कैंप पर पहुंच गई|

 

 

एवरेस्ट पर चढ़ने के लिए पांच अलग-अलग पड़ाव पार करने होते हैं| उसने हार नहीं मानी और मजबूती से चलती रही| पर अंतिम पड़ाव पर आकर वह बहुत थक गई और उसे सांस लेने में दिक्कत होने लगी| उसकी टीम के लीडर ने उसे वहीं से लौट जाने का आदेश दिया|

कुसुम ने जिंदगी में पहली बार हार का सामना किया था| वह जब वापस अपने गांव लौटी तो गांव वालों ने उसका बड़ा अपमान किया और उसकी मजाक उड़ाई |उस दिन उसने तय कर लिया कि जब तक मैं एवरेस्ट की चढ़ाई नहीं करूंगी, जिंदगी में और कुछ नहीं करूंगी|

लंबी छुट्टी लेकर कुसुम अपने पैसों से एवरेस्ट पर चढ़ाई करने के लिए पहुंच गई| इस बार जोश कई गुना ज्यादा था| उसने जीवन भर की सारी जमा-पूंजी इस पर लगा दी थी| एक बार फिर  अंतिम पड़ाव तक पहुंच गई लेकिन इस बार भी अंतिम पड़ाव पर जाकर उसके हौसले पस्त होने लगे ,साथ ही मौसम भी खराब होने लगा|

अब कुसुम के सामने चुनौतियां ज्यादा थी| जिंदगी की पूरी कमाई, गांव वालों की इज्जत, माता-पिता का विश्वास और अपने भीतर की खुशी एक सवाल बन कर उस की आंखों के सामने तैर रही थी| उसने तय किया कि चाहे कुछ भी हो जाए अब वापस नहीं लौटना है |

अगले 8 घंटे उसकी जिंदगी के सबसे कठिन समय थे| लेकिन फिर भी वह डटी रही और अंत में वह एवरेस्ट की चोटी तक पहुंच गई| जब कुसुम वापस अपने गांव लौटी तो गांव वालों ने दिल खोलकर उसका स्वागत किया और उससे माफी भी मांगी|

सीख:-

लोग हमारी नहीं, बल्कि हमारी उपलब्धियों की कद्र करते हैं


Related posts

Leave a Comment