Kudrati Drashya | सीखो प्रकृति से जीवन जीने की कला


Kudrati Drashya – प्रकृति(Nature)

 

आप ये भी पढ़ सकते हैं:-

Kudrati drashya

 

प्रकृति अत्यंत सरल है| इसकी समस्त क्रियाएं बड़ी सरलता के साथ होती है, जैसे सूर्य का उदय होना, तारों का टिमटिमाना और नदियों का निरंतर बहना|

 

kudrati drashya

पेड़ पौधे फलते-फूलते हैं|

 

पर्वत चट्टाने स्थिर हैं|

 

 

प्रकृति में सब कुछ स्वयं ही होता है| प्रकृति की तरह जो चीजें सरल रूप में रहती हैं वही सत्य है|

 

(kudrati drashya)

यह बातें हमारे जीवन पर भी लागू होती है| सरल रहने तक मानव जीवन हकीकत में प्रकृति से प्रेरित जीवन जीता है|

 

जीवन के गणित को समझाने के चक्कर में हम इतने उलझ जाते हैं कि अंत में मृत्यु ही इनके उलझाव को सुलझाती है|

सत्य को कभी याद नहीं रखना पड़ता है| यह अपने आप ही स्मृति में रहता है| झूठ को हमेशा स्मृति पटल पर रखना होता है| झूठ को जितनी बार दोहराते हैं, उतनी ही बार उसका अर्थ बदलता जाता है| झूठ जटिलताएं उत्पन्न करता है जो मानसिक तनाव का कारण बन कर जीवन की सरलता को नष्ट करता है| सरलता के बिना सत्य की निकटता नहीं मिलती| जीवन में जटिलताएं छोड़ने पर जीवन को एक नई दिशा मिल जाती है|

पढ़िए प्रेरणादायक कहानियां :-


Related posts

Leave a Comment