असली विजेता मोहन


जीतने का मतलब

 

एक गांव में मोहन नाम का लड़का रहता था| उसके पिताजी एक मामूली मजदूर थे| एक दिन मोहन के पिताजी उसको अपने साथ शहर ले गए| उनको एक मैदान साफ करने का काम मिला था जिसमें एक दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन होना था|

मोहन मैदान देख कर बहुत खुश हुआ| उस दिन उसे भी दौड़ने का शौक चढ़ गया| जब यह दोनों गांव लौटे तो मोहन ने अपने पिता से जिद की कि हमारे गांव में भी दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन होना चाहिए| मोहन के पिता ने गांव के प्रधान के सामने यह सुझाव रखा|

कुछ ही दिनों में प्रतियोगिता की तैयारी शुरू हो गई और आसपास के सभी गांव के बहुत सारे बच्चे दौड़ में हिस्सा लेने के लिए आ गए|

मोहन के दादा जी सब शांति से देख रहे थे| हालांकि प्रतियोगिता बहुत कठिन थी| लेकिन मोहन ने ठान रखा था कि उसे जीतना ही है|सीटी बजते ही सारे प्रतिभागी रेस लाइन की तरफ दौड़ने लगे|

 

कड़क धूप और पथरीले रास्ते को पार करते हुए मोहन ने रेस जीत ली| पूरा मैदान तालियों से गूंज उठा| मोहन की एक के बाद एक जीत का सिलसिला शुरू हो गया|

मोहन के दादा जी मन ही मन यह देख कर बहुत दुखी होते थे| एक दिन दादाजी ने मोहन के लिए एक खास दौड़ का आयोजन किया| दौड़ के नाम पर मोहन खुशी-खुशी मैदान में आया|

दादाजी ने उससे कहा बेटा, हर रेस में जीतने के अलग-अलग तरीके होते हैं| सोच समझकर दौड़ना|मोहन को कुछ समझ नहीं आया|

 

आसपास के सभी गांव के लोग दौड़ प्रतियोगिता देखने आए थे|मोहन ने देखा कि इस प्रतियोगिता में उसके अलावा केवल दो ही प्रतिभागी थे| हमेशा की तरह सिटी बजते ही मोहन रेस लाइन की तरफ दौड़ा| वह लाइन तक पहुंचने ही वाला था कि उसने देखा कि बाकी के दोनों प्रतिभागियों ने अभी तक दौड़ना भी शुरू नहीं किया है|

मोहन ने देखा कि एक प्रतिभागी लंगड़ा है और दूसरा प्रतिभागी अंधा| मैदान में चुप्पी छाई हुई थी| मोहन अपनी जगह पर वापस गया और दोनों प्रतिभागियों के हाथ पकड़कर, धीरे-धीरे उन्हें रेस लाइन तक साथ में लेकर आया| तीनों प्रतिभागियों ने एक साथ रेस लाइन को पार किया| यह देखकर पूरा मैदान तालियों की गूंज से भर उठा|

मोहन के दादा जी बोले, आज मुझे यकीन हो गया है कि तुम असली विजेता हो|

सीख :-

जीवन की हर रेस में जीतना ही जरूरी नहीं होता है


Related posts

12 Thoughts to “असली विजेता मोहन”

  1. बहुत अच्छी कहानी है सर

    दिल को छू गयी।

  2. bahut acchi story thi really impressive

  3. Nice story, you have narrated it in a excellent way

  4. सुन्दर कहानी पढ़कर अच्छा लगा ,धन्यवाद

  5. Very good post. Author deserves a salute

  6. Umar rayan

    Very nice heart touching story

  7. narmada swain

    good story sir

  8. Shweta

    Nice story sir

  9. I think this blog is perfect for story readers and students also. So many valuable articles has been depicted here very smooth! Keep it up…Thanks…

Leave a Comment