राजा जनक को ज्ञान प्राप्ति | Ashtavakra Story

एक बार राजा जनक(Raja Janak) ने ज्ञान प्राप्ति के लिए सभी महात्माओं को बुलाया और कहा:- “जो भी मुझे ज्ञान दे सके वह इस सिंहासन पर बैठ कर दें, लेकिन शर्त यह है कि मुझे ज्ञान इतने समय में चाहिए जितना समय घोड़े पर सवार होने में लगता है”| सभी महात्मा सोचने लगे ज्ञान कोई घोलकर पिलाने वाली चीज नहीं है जो तुरंत ही अपना असर कर दें| इतने में अष्टावक्र(Ashtavakra) भी सभा में आ गए उनका शरीर आठ जगह से मुडा हुआ था और वह कुबड़े थे|   उन्होंने…

read more